PEB परीक्षाओं में बड़ा बदलाव -Normalization से मिलेगी मुक्ति KBC जैसे होंगे सवाल।

प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड ( पीईबी परीक्षा प्रणाली में बड़े स्तर पर बदलाव करने जा रहा है । पीईबी आईटम रिस्पांस थ्योरी ( आईआरटी ) के आधार पर परीक्षा कराने की तैयारी कर रहा है । आईआरटी पर परीक्षा होने से सवाल कौन बनेगा करोड़पति ( केबीसी ) की तर्ज पर आएंगे । यानि जैसे – जैसे सवाल जवाब दिया जाएगा , अगला सवाल और भी कठिन होता जाएगा । परीक्षा में कुलसौ सवाल पूछे जाएंगे । इसके लिए पीईबी करोड़ों प्रश्नों का बैंक भी तैयार करनेजा रहाहै । गौरतलबहै कि पिछले करीब एक साल से भर्ती और प्रवेश परीक्षाएं सिर्फ ऑनलाइन ही आयोजित की जा रही है । व्यापमं घोटाले के बाद गिरी साख को बदलने के लिए लगातार कोशिश की जा रही है । पहले व्यापमं नाम बदलकर पीईबी कर दिया गया फिर ऑफलाझ माध्यम से होने वाली परीक्षाएं ऑनलाइन आयोजित की जाने लगीं । अब पीईबी परीक्षा प्रणाली में भी बडे स्तर पर बदलाव करने जा रहा है । इसके लिए पीईबी प्रश्न बैंक तैयार कराने जा रहा है । हर परीक्षा का उसके सिलेबस के अनुसार अलग प्रश्न बैंक होगा । इसी प्रश्न बैंक में से परीक्षाओं सवाल पूछे जाएंगे । प्रश्नों और उसके जवाबों की जांच करने के बाद प्रश्न बैंक में रखा जाएगा । इससे गलत सवाल या सही सवालका गलत जवाब आशंका भी पूरी तरह समाप्त हो जाएगी । इसके अलावा कभीकोई प्रश्न बार परीक्षा में आने के बाद दोबारा आएगा ।

Advertisement

पीईबी की परीक्षा प्रणाली में बड़े स्तर पर बदलाव होना है । इसका मकसद सिस्टम को मजबूत बनाने के साथ ही योग्य उम्मीदवार काचयन करना है । आईआरटी आधारित परीक्षा प्रणाली लागू करने की योजना पर काम किया जा रहाहा – एकएस भदौरिया परीक्षा नियंत्रक पीईबी

नॉर्मलाइजेशन अब तक हर परीक्षा के पहले प्रश्न विशेषज्ञों से लिए जाते हैं । यदि सवाल या सवाल का जवाब गलत होता है तो नार्मलाइजेशन प्रणाली से प्रश्न पत्र की कठिनता का स्तरजांच कर एक फॉमूर्ले से औसत अंक दिए जाते हैं । ऐसे में परीक्षार्थी के अंकों में भी अंतर आ जाता है । परीक्षार्थी को ऑनलाइन परीक्षा देने के बादजो अंक कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देते हैं , रिजल्ट जारी होने पर बदल जाते हैं । कभी परीक्षार्थी के अंक कम हो जाते हैं तो कभी ज्यादा हो जाते हैंहैं । लेकिन प्रश्न बैंक से सवाल आने से इस झंझट से भी मुक्ति मिल जाएगी । ऐसे में परीक्षार्थी अपनी स्क्रीन पर जो अंक देखेगा रिजल्ट के समय भी अंक मिलेंगे ।

The Professional Examination Board (PEB is going to make a big change in the examination system. PEB is preparing to conduct the examination based on ITM Response Theory (IRT). Who will be questioned on the basis of examination on IRT on the lines of Killionaire (KBC) Will come. That is, as the questions will be answered, the next question will become more difficult. Kulsau questions will be asked in the exam. PEB crores for this The bank of questions is also being prepared. Significantly, recruitment and entrance examinations have been conducted online only for the last one year. After the Vyapam scam, continuous efforts are being made to change the credibility. First name changed to PEB Then the examinations conducted through Offalaj were being conducted online. Now PEB is going to make a big change in the examination system also. . PEB question for the Bank is being made ready. Will separate question bank according to its syllabus every test. This question will be asked exam question bank. Will put the questions and question bank to check his answers. This will also completely eliminate the possibility of wrong question or wrong answer to the right question. Apart from this, some questions will come again after appearing in the exam.

The examination system of PEB has to be changed on a large scale. Its purpose is to strengthen the system and select qualified candidates. A plan to implement IRT based exam system is being worked out – AS Bhadoria Exam Controller PEB

Normalization Till now questions are taken from experts before every exam. If the question or question is answered incorrectly, then the level of difficulty of the question paper from the normalization system is checked and the average marks are given from a formula. In this case, there is a difference in the marks of the candidate. After giving the online test to the candidate, the marks which appear on the computer screen change when the result is released. Sometimes the marks of the candidate are reduced and sometimes they are more. But by getting questions from the question bank, you will get rid of this mess too. In such a situation, the marks that the examinee will see on his screen will get marks at the time of the result.

Leave a Comment

Your email address will not be published.