MP में बन्द हो जाएगी प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती

मध्य प्रदेश में सरकारी स्कूलों को बंद करने का सिलसिला शुरू होने वाला है

Advertisement

स्कूल संचालित करने के लिए 20 से ज्यादा छात्र होना आवश्यक है तो वहीं प्रायमरीपहली खेप में 12 हजार 876 स्कूलों को बंद करने की तैयारी है । इसके लिए प्रदेश भर में समीक्षा शुरू होगी । राज्य शिक्षा केंद्र ने एक आदेश जारी कर जिले अधिकारियों से कहा कि उन स्कूलों की समीक्षा की जाए , जहां छात्रों की संख्या से 20 है । ऐसे स्कूलों को समीप के स्कूलों में मर्ज कर शिक्षकों की सेवाएं कार्यालय या फिर अन्य स्कूलों में ली जाएं । राज्य शिक्षा केंद्र की सूची में भोपाल , इंदौर ग्वालियर और जबलपुर संभाग के जिलों में सबसे ज्यादा स्कूल बंद होंगे । शून्य छात्र संख्या वाले जिले भिंड -16 , श्योपुर -10 , देवास -18 , शिवपुरी -16 , उज्जैन -19 , इंदौर -10 , धार -21 खरगोन -27 , सागर -48  दमोह -27 , पन्ना -27 । स्कूल शिक्षा विभाग के नियमानुसार मिडिल स्कूल  संचालित करने के लिए 20 से ज्यादा छात्र होना आवश्यक है।

4 हजार प्राइवेट स्कूल भी  बंद होने की कगार पर हैं इसकी समीक्षा की जा रही है , स्कूल शिक्षा विभाग ने 12 हजार 178 स्कूल 20 छात्र संख्या वाले  चिन्हित किये हैं 698 स्कूल शून्य छात्र संख्या वाले है

 

प्रदेश के जिन स्कूलों में छात्र ही नहीं , वहां शिक्षकों की जरूरत नहीं है । ऐसे स्कूलों को समीप के किसी स्कूल में मर्ज किया जाएगा । शिक्षकों भी दूसरों स्कूलों में मर्ज किया जाएगा । फिलहाल इसकी समीक्षा की जा रही है । – लोकेश जाटव , आयुक्त राज्य शिक्षा केंद्र

प्राइमरी शिक्षकों की बंद हो जाएगी भर्ती प्रदेश में 12 हजार 876 स्कूल बंद होते है , तो इनमें कार्यरत करीब 26 हजार शिक्षकों को दूसरे स्कूलों में शिफ्ट किया जाएगा । इससे जहां शिक्षकों की कमी है , वहां उनकी पूर्ति हो जाएगी । इससे प्राइमरी या मिडिल स्कूलों में आगामी कुछ सालों तक भर्ती नहीं होगी ।

1 thought on “MP में बन्द हो जाएगी प्राइमरी शिक्षकों की भर्ती”

  1. Umashankar Sharma

    दिनांक 10/08/2020को उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती (बायलाजी) के सम्बन्ध में याचिका की सुनवाई का समाचार करता है कृपया वर्तमान स्थिति बताने का कष्ट करें

Leave a Comment

Your email address will not be published.