शिक्षक भर्ती में साक्षात्कार से भ्रष्टाचार को मिलेगा बढ़ाबा।

नई शिक्षा नीति में शिक्षक भर्तियों साक्षात्कार और डेमो क्लासेस लागू करने को लेकर प्रदेश में बवाल मच गया है । एक तरफ सरकार ने इस नियम को भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाला बताया है । दूसरी तरफ बेरोजगारों ने भी इसका विरोध शुरू कर दिया है । शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 मूलतः राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 पर आधारित है । इस नीति शिक्षक भर्ती में साक्षात्कार का प्रावधान लागू किया गया है जो भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने वाला सिद्ध होगा । अशोक गहलोत सरकार भर्तियों में साक्षात्कार की प्रक्रिया को इसलिए हटाया था , क्योंकि इसमें भाई भतीजावाद होता था । शिक्षा नीति के ड्राफ्ट के समय भी हमने इस बिंदू पर आपत्ति दर्ज कराई थी इस मुद्दे पर फिर से केंद्र से बात की जाएगी । राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के प्रवक्ता उपेन यादव ने भी इसका विरोध किया है । यादव ने कहा कि शिक्षक भर्ती में साक्षात्कार लागू होने से भर्तियों पर नए विवाद खड़े होंगे । साथ ही इससे योग्य अभ्यर्थियों के चयन पर भी संदेह रहेगा । एप्रोच वालों का चयन होगा । वे इसको हटाने की मांग कर रहे हैं । केंद्र सरकार अगर शिक्षक भर्ती से साक्षात्कार की प्रक्रिया को नहीं हटाया इसका विरोध किया जाएगा ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.