ब्लैक फंगस से कैसे बचें (black fungus se bachne ke upay in hindi )

Covid रिकवरी के दौरान ब्लैक फंगस की समस्या और उसके निराकरण हेतु हम क्या क्या उपाय कर सकते हैं ।

Advertisement

इस आर्टिकल में हम विस्तार से समझेंगे

black fungus se bachne ke upay in hindi
black fungus se bachne ke upay in hindi

कोरोना मरीजों (Covid Patients) और कोरोना वायरस (Corona Virus )से ठीक हो चुके लोगों में ब्लैक फंगस (Black fungus) यानी म्यूकोरमाइकोसिस (Mucur Mycosis) के खतरे ने चिंता बढ़ा दी है । ब्लैक फंगस को एक गंभीर बीमारी बताया जा रहा है , जिससे व्यक्ति की जान जाने का खतरा भी बना रहता है । ज्यादातर कोरोना से ठीक होने के बाद लोगों में इसके लक्षण नजर आ रहे हैं । ऐसे में इससे बचने के लिए लोगों को कोरोना होने के समय से ही अपना बचाव करके रखना चाहिए , जिससे बाद में वे ब्लैक फंगस इंफेक्शन Black fungus infection से बच सकें । लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉक्टर विवेक चौकसे से जानें ब्लैक फंगस से बचने के लिए आपको किन बातों का ध्यान रखना है ।

क्या है ब्लैक फंगस (Kya hai Black fungus In hindi )

कोरोना वायरस Corona Virus से ठीक होने वाले लोगों में ब्लैक फंगस Black fungus की बीमारी बहुत तेजी से फैल रही है । इसे मेडिकल टर्म में म्यूकरमायकोसिस Mucer Mycosis कहा जा रहा है । ब्लैक फंगस मरीज के दिमाग , फेफड़ों और स्किन पर अटैक कर सकता है । यहां तक कि इस बीमारी की वजह से कई मरीजों की आंखों की रोशनी भी जा रही है । इतना ही नहीं इसमें कई मरीजों के जबड़े और नाक की हड्डी के गलने की भी समस्या सामने आ रही है । इतना ही नहीं यह मरीज की जान भी ले सकता है । इसके लक्षण हैं – नाक और आंख के आस – पास दर्द होना , बुखार और सिरदर्द मानसिक रूप से अस्वस्थ होना ।

वचाव के लिए इन बातों का रखें ध्यान (Precautions for Black fungus)

बेवजह स्टेरॉइड्स लेने से आपको बचना चाहिए । कोरोना के दौरान आपको स्टेरॉइड्स को ज्यादा मात्रा में सेवन करने से बचना चाहिए । डॉक्टर की सलाह पर ही आपको इसका सेवन करना चाहिए । – इसके साथ ही अगर आप कोविड पेशेंट हैं और ब्लैक फंगस से बचना चाहते हैं , तो आपको ऑक्सीजन सिलेंडर के राडीफायर ( ऑक्सिफ्लो मीटर में लगी एक पानी की बोतल ) में सेलाइन वॉटर का ही इस्तेमाल करना चाहिए । इससे कोरोना से ठीक होने के बाद आपको ब्लैक फंगस होने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है । कई लोग कोरोना होने पर बिना डॉक्टर की सलाह के एंटीबायोटिक्स धड़ल्ले से ले रहे हैं । आपको बता दें कि कोविड एक वायरस है , जबकि एंटीबायोटिक्स बैक्टीरिया के खिलाफ लड़ाई करने के लिए दी जाती है । बहुत ज्यादा मात्रा में एंटीबायोटिक्स लेने से आप वायरस को नहीं मार सकते हैं । इसलिए आपको इस दौरान डॉक्टर की सलाह पर ही एंटीबायोटिक्स का सेवन करना चाहिए । डॉक्टर के द्वारा बताया गया उतना ही डोज लें , जितने में कोई दूसरा सुपर एडेड इंफेक्शन न हो । कोरोना होने पर अगर मरीज का ऑक्सीजन लेवल डाउन होता है , तो ऑक्सीजन दी जाती है । ऐसे में दूसरे मरीजों का ऑक्सीजन मास्क इस्तेमाल करने से भी आपको बचना चाहिए । इससे भी ब्लैक फंगस होने इस्तेमाल करना चाहिए । की बहुत ज्यादा संभावना रहती है । ऐसे में आपको अपना अलग मास्क का ब्लैक फंगस का सबसे ज्यादा खतरा डायबिटीज पेशेंट को रहता है । ऐसे में उन्हें अपने शुगर लेवल को कंट्रोल में रखना बहुत जरूरी होता है । सकता है । शुगर लेवल कंट्रोल में रहने पर ब्लैक फंगस के इंफेक्शन से बचा जा – इसके साथ ही ब्लैक फंगस जैसे इंफेक्शन से बचने के लिए आपको दिनभर में 3-4 बार अपने नाक और आंखों को साफ पानी से साफ करें । इसके साथ ही दिन में 2 बार की स्टीम लें ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.